रविवार, 21 अक्तूबर 2012

तुम्हारे जाने के बाद भी...

तुम्हारे जाने के बाद भी

निकले हैं सूरज,
खिली है धूप,
आया है वसंत,
मुस्कुराएँ हैं फूल,
और गुनगुनाते रहें हैं भौरें,
पर
तुम नहीं हो
तो चटख नहीं है धूप,
उदास है  वसंत,
थोडा रुआंसे हैं फूल,
और  भवरें गुनगुनाते हैं
कभी-कभी 
किन्हीं 
नामालुम उदासियों के गीत;

तुम चले गए  हो
तो भी
राहें वैसी ही चल रही हैं, 
पगडंडियों में वही धूल है, 
सवेरा भी होता है,
रात भी आती है,
संसार की वैसी ही है धुन
पर
तुम्हारे न होने से
दिशाएं खो गयी हैं  राहों की, 
धूल के बड़े हो गए हैं  गुबार,
उतना उत्साह नहीं सवेरों में,
रातों का चाँद भी
कहीं खोया-खोया सा है,
संसार की हर धुन है
गुमसुम,
और किन्हीं  अर्थों में 
ज़रा मायूस है जिंदगी।



7 टिप्‍पणियां:

Shakti Suryavanshi ने कहा…

kya likhu ab...nisabd

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

वाकई, बहुत सुन्दर मनोभाव उकेरे हैं.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत खूब, पर वैसा सब कुछ नहीं रह पाता है।

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

अच्‍छा है

boletobindas ने कहा…

दिल उदास तो सारा संसार उदास सा ही नजर आता है। अच्छी पंक्तियां।

Vinay Prajapati ने कहा…

क्या बात है!!!

---
अपने ब्लॉग को ई-पुस्तक में बदलिए

Nihar Ranjan ने कहा…

बहुत खूब.